BlogNews Room

कोविड-19 संकट के बीच मजदूरों को आर्थिक सहयोग देने की वित्तीय क्षमता रखती है भारत सरकार

इस संकट ने किसी देश को छोड़ा नहीं है- जब यूरोप और अमेरिका की नींव हिल चुकी है, तो वह कौन सा मुल्क है जिसे रेटिंग एजेंसी सर्वश्रेष्ठ रेटिंग देगी?

कोरोनावायरस केंद्र और राज्य सरकारों के लिए नई चुनौती बन कर सामने आया है. इसके मद्देनजर अर्थशास्त्रियों ने भी सरकार के सामने कई तरह के सुझाव रखे हैं. आर्थिक विशेषज्ञों ने एक बात स्पष्टता से रखी है- वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित सहयोग पैकेज कामगार जनता को भूख से बचाने के लिए पर्याप्त नहीं है और अंतर्राष्ट्रीय मानकों के आगे बहुत छोटा है. यूनिवर्सल बेसिक इनकम (यूबीआई), अन्न भंडारों का खुलना, और लघु एवं मध्य उद्योगों को सहयोग ऐसी स्थिति में अर्थव्यवस्था और मेहनतकश समाज के लिए वेंटीलेटर का काम करेंगी.

कोरोनावायरस से लड़ने के लिए सरकार को स्वास्थ्य व्यवस्था (ख़ासकर टेस्टिंग) का प्रबंधन करना पड़ रहा है, पर इसके साथ लॉकडाउन के दौरान हुई आय की क्षति को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता. केंद्र सरकार द्वारा घोषित 1.7 लाख करोड़ रुपए के पैकेज में से 1 लाख करोड़ रुपए ही 2019-20 के बजट खर्च के अतिरिक्त है. जिन परिवारों के पास राशन कार्ड नहीं है, उन्हें महज़ 500 रुपए देने का वादा किया गया है, वो भी तब जब उन्हें अन्य सरकारी योजनाओं के तहत जन-धन खातों में पहले से पैसा मिलता है. अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज़ के मुताबिक़, किसी भी परिवार के लिए ये बहुत छोटी रकम है. प्रवासी मज़दूरों की पीड़ा (यहां तक कि भूख से मौत और आत्महत्या की खबरें) इस कथन का क्रूर ढंग से पुष्टिकरण कर रही हैं.

 

बहरहाल, ऐसे प्रस्तावों को शक की नज़र से देखने वाले पाठकों के लिए बेहतर सहयोग पैकेज की रकम मुहैया करने के कुछ प्रस्तावों का उल्लेख किया जा रहा है. 2019 में नोबेल पुरुस्कार के विजेता, अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी का एक संक्षिप्त सुझाव है- भारतीय रिज़र्व बैंक को नोट छापने में देरी नहीं करनी चाहिए. चूंकि कच्चे तेल के दाम कम हैं, रुपए की स्थिति को इस कदम से ख़ास नुकसान नहीं होना चाहिए. हालांकि मुद्रण महंगाई का कारण बन सकता है, पर फ़िलहाल अर्थव्यवस्था को इससे कम खतरा है. जब मांग आपूर्ति से ज़्यादा होती है, तब आटे-दाल के दाम बढ़ते हैं- लॉकडाउन की स्थिति में मांग सप्लाई से कहीं ज़्यादा कम है, इसलिए महंगाई बढ़ने की संभावना भी शून्य है. कठोर-दिल मित्र जवाब दे सकते हैं कि लॉकडाउन में आटे और चावल की सप्लाई कम पड़ सकती है. तो उनके जवाब में हम कहेंगे कि भारतीय खाद्य निगम के 7.7 करोड़ टन के खाद्य भण्डार डिमांड और सप्लाई को संतुलित करते हुए महंगाई पर लगाम कस सकते हैं.

 

कपूर और सुब्रमनियन विदेशी संस्थानों और सरकारी ऋणपत्र के माध्यम से पैसा जमा करने का प्रोत्साहन देते हैं. उनके द्वारा सुझाई गयी रणनीति घरेलू और विदेशी कर्ज़े की बढ़त को सकल घरेलू उत्पाद के बीसवें हिस्से से भी कम रखेगी. उनका दावा है कि यह कदम धारणीय भी है और अनिवार्य भी.

कॉर्पोरेट कर्ज़ा मुआफ़ी पर भी अस्थाई विराम लगाना ज़रूरी है. सबसे धनी भारतीयों की लिस्ट में पहले सौ को देख लीजिये: फोर्ब्स के मुताबिक़, इनका कुल मूल्य लगभग 45,000 करोड़ डॉलर है. तत्कालीन आर्थिक संकट में इन व्यक्तिओं का नुकसान निस्संदेह होगा, लेकिन ग़ौरतलब है कि यह वही संकट है जो गरीबों को भूख से मार रहा है. ऐसी शर्मनाक गैर-बराबरी का उपाय धन/ दौलत पर टैक्स लगा कर करना होगा. बेशक 1.5% के धन टैक्स की चोरी भी आम हो जाएगी, लेकिन मुल्क के धनी इन कठिन परिस्थितियों में दौलत का निर्माण करने वाले मज़दूरों को यदि उनका हक अब नहीं तो कब देंगे?

(लेखिका ब्राउन युनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र में पीएचडी कर रही हैं. यह लेख उनके निजी विचार हैं)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close