Poems , Shayari

Duriyaan Hindi poem by Dheeraj Tuhania || Hindi Shayari

Hindi poem by Dheeraj Tuhania

Duriyaan Hindi poem by Dheeraj Tuhania A Association with Bhaarisale.com and Grabv.in

रंजिश क्या करे हम उनसे ये अपना दिल है जो उनका हो चला

उनको पाने की ज़ुस्तजु में मैं अपना वजूद ही खो चला …

शिखवा नहीं कुछ उनसे वो शायद मेरी तक़दीर ना थे

समझने में हमने गलती की वो उन ख़्वाबों के ताबीर ना थे …

संभाल लिया हैं खुद को पर ये आँखें परेशान करती है

जो उनकी तस्वीर को लिए बड़ी शिददत से उनका इंतजार करती हैं….

 

 

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close